भारत भ्रमण खण्ड-4 | Bharat Bhraman Khand-4

भारत भ्रमण खण्ड-4 | Bharat Bhraman Khand-4

भारत भ्रमण खण्ड-4 | Bharat Bhraman Khand-4 के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : भारत भ्रमण खण्ड-4 है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Babu Sadhucharan Prasad | Babu Sadhucharan Prasad की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 31.62 MB है | पुस्तक में कुल 504 पृष्ठ हैं |नीचे भारत भ्रमण खण्ड-4 का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | भारत भ्रमण खण्ड-4 पुस्तक की श्रेणियां हैं : history, Knowledge

Name of the Book is : Bharat Bhraman Khand-4 | This Book is written by Babu Sadhucharan Prasad | To Read and Download More Books written by Babu Sadhucharan Prasad in Hindi, Please Click : | The size of this book is 31.62 MB | This Book has 504 Pages | The Download link of the book "Bharat Bhraman Khand-4" is given above, you can downlaod Bharat Bhraman Khand-4 from the above link for free | Bharat Bhraman Khand-4 is posted under following categories history, Knowledge |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 31.62 MB
कुल पृष्ठ : 504

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

अमडाके रेलवे स्टेशनसे १२ मील पश्चिम-दक्षिण सिंहभूम जिलेके चक्रधरपुरमे रेलवे के एञ्जिन बदलते हैं। स्टेशनके आसपास अनेक कोठियाँ बनी हैं। वहाँसे उत्तर एक सड़क रांचीको गईहै । उससे आगे रेलवेके दोनों ओर अधिक पहाड़ियाँ देखनेमें आती है। चक्रधरपुरसे ३७ मील पश्चिम-दक्षिण मनारपुरका स्टेशन है। वहाँ उत्तम शालके वृक्षोसे भरे हुए जङ्गलोंसे रेलवे निकलती है। उन जङ्गलों में बहुत पहाडियाँ होने के कारण घूम घाम कर रेलवे लाइन निकली है । एक जगह पहाड़ फोड़कर उसके भीतर लाइन बैठाई गई है जिससे होकर रेलगाडी निकलती है, वहाँके प्रायः सम्पूर्ण निवासी कोल है ।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.