समर्पित लोक सेवक | Samarpit Lok Sevak

समर्पित लोक सेवक | Samarpit Lok Sevak

समर्पित लोक सेवक | Samarpit Lok Sevak के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : समर्पित लोक सेवक है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Dr. Renuka Pamecha | Dr. Renuka Pamecha की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 6 MB है | पुस्तक में कुल 340 पृष्ठ हैं |नीचे समर्पित लोक सेवक का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | समर्पित लोक सेवक पुस्तक की श्रेणियां हैं : Social, society

Name of the Book is : Samarpit Lok Sevak | This Book is written by Dr. Renuka Pamecha | To Read and Download More Books written by Dr. Renuka Pamecha in Hindi, Please Click : | The size of this book is 6 MB | This Book has 340 Pages | The Download link of the book " Samarpit Lok Sevak " is given above, you can downlaod Samarpit Lok Sevak from the above link for free | Samarpit Lok Sevak is posted under following categories Social, society |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 6 MB
कुल पृष्ठ : 340

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

आजकल कई लोग अपनी पहचान समाज -ौय' कल नवाते है । आगदी के बाद जो सरकारी नौकरी भी समाज-सेवा हो गई है । इयों का तो समाज-सेवा पेश ही बन गया है। माई नहर सिंह नै समुच एव सम-सेक्क थे , आते हैं वे अपने -आपको पैसा कहते न रहे हैं। दूसरे लोग तो उ सेठ स ही रहते थे। उन्हें सम-सेवक कहने की आवश्यकता भी नहीं, बकि वे समाज-सेवा का कई श्रेय नहीं होना पहने थे, न उस स पीटना गले में कुछ पाने की बात तो सपने में भी उनके ध्यान में नहीं आई खेगी , न दुसरे लोग्ने नै कभी के विषय में इस बात की कल्पना ये होई।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.