बीजगणित : पं मोहनलाल हिंदी पुस्तक | Beejganit : Pandit Mohanlal Hindi Book

बीजगणित : पं मोहनलाल हिंदी पुस्तक | Beejganit : Pandit Mohanlal Hindi Book

बीजगणित : पं मोहनलाल हिंदी पुस्तक | Beejganit : Pandit Mohanlal Hindi Book के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : है | इस पुस्तक के लेखक हैं : | की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 10.68 MB है | पुस्तक में कुल 264 पृष्ठ हैं |नीचे का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | पुस्तक की श्रेणियां हैं : christian, education, Knowledge

Name of the Book is : | This Book is written by | To Read and Download More Books written by in Hindi, Please Click : | The size of this book is 10.68 MB | This Book has 264 Pages | The Download link of the book "" is given above, you can downlaod from the above link for free | is posted under following categories christian, education, Knowledge |


पुस्तक की श्रेणी : , ,
पुस्तक का साइज : 10.68 MB
कुल पृष्ठ : 264

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

॥वीजगणित॥ ३ पक परिनाया-॥ क राशि शब्द का स्पर्य समुद वा देर कै घोर दस पर एक वरतु का परिमाण जाना जाता रै कि वद् तोलससा | दि में कितनी है वा गिनती में कितनी दे दससिये सशिके सभगने के लिये यंक लिखते हैं जे मत्यी की राशि का परिमाणा गिनती से जाना जाता है और कपड़ों सा परि- साए गज्ों की सरया से जाना जाता दे चीज गर्णित में व्यत्त - व्सर्थात्‌ जानी जुददराशि जैसे ९४ प्सादमी ९९ वाद सेस्थान में बस के यू न्मादि ्सप्सर लिखते रे सौर प्सः व्यक्त च्वथीत्‌ वनजानी दुई राशि के स्थान मे जैसे शभ से छू जाय कितने गज कपड़ा के दा कितने मज ं है दस के स्थान में यर-ल -द ५ स्सादि व्सस्तर लिखते हैं हे के रखने नें यणशित सद्ज से थे दे में छोजाती है केंकि र२७५६ के स्थान में सु लिख सकते दें 1 जाना चद्ाना उजुणा नाग न्सादिकी नविन्दू लिख ते हें + यद्द चिन्द्‌ जारने का दे दूसे धन करते है दूव्य इकड्े रोने को धन करते हैं दूसलिये-जब यरुचिन्ट दो णड्शि के वीच में दो तो जानो कि बाई <्फोर की रा में सुनी ब्सोर की रच जाइनी दे जैसे ब्स+ कर च्म घन से पुछेंगे दूसका यद्द पर्थ है किच्स राशि में का शशि 23 तौर कल्पना करो कि न्य राशि इ के दरादर रू करा ७ के बरावर है नी नस का ए+१७ दा सके दोनो चोर जो मे ४ के बराबर देह तो मं+के+ ग पे से धरने के धन में पढेंगे रबर ९०० ४ दा ८ फलुरप

You might also like
3 Comments
  1. Neeraj Kumar dubey says

    हमने एक पुस्तक अपलोड़ कीया था आपके साईड़ पर जो पहले से आपके पास नही था वो दीखाया नही जा रहा है क्यु??

    1. Jatin says

      पुस्तक का नाम व अन्य जानकारी बताएं , साईट पर शीघ्र ही पोस्ट की जायेगी |

    2. Jatin says

      you can send us mail imjcrocks001@gmail.com

Leave A Reply

Your email address will not be published.