लीलावती | Lilavati

लीलावती | Lilavati

लीलावती | Lilavati के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : लीलावती है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Bhaskaracharya | Bhaskaracharya की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 25.69 MB है | पुस्तक में कुल 378 पृष्ठ हैं |नीचे लीलावती का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | लीलावती पुस्तक की श्रेणियां हैं : Knowledge

Name of the Book is : Lilavati | This Book is written by Bhaskaracharya | To Read and Download More Books written by Bhaskaracharya in Hindi, Please Click : | The size of this book is 25.69 MB | This Book has 378 Pages | The Download link of the book " Lilavati" is given above, you can downlaod Lilavati from the above link for free | Lilavati is posted under following categories Knowledge |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 25.69 MB
कुल पृष्ठ : 378

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

संख्यानां सङ्कलन व्यवकन्न नपायमिन्द्रवधाना काय्येति क्रमात् अद्धस्य वाम गतिरतः दक्षिणभागतः गणनामारभ्य वामभागान्त्याङ्क पर्थ्यन्तगणनं क्रमः तमवलम्बा ( यवों पञ्चमी) अथवा तत्क्रमतः वामभागसः आरभ्य दक्षिणस्थान्त्याः पय्यन्तगणनं उत्क्रम: तमाथित्व यथा स्थानकम् एकक म्थानीयानामे कक-स्थाने दशक स्थानीयानां दशकस्थान इत्यादिना अयोग: काय्यः वा अथवा यथास्थानकम् अङ्कानाम् अन्तरं काय्यम् अन्तरे तु विशेषाभावात् अङ्कस्य वामा गतिरिति नियमेन सुव्य क्रमव अन्तर कार्य्यम् 'यथास्थानक'मिति पदस्य 'काकात्तिगोनक'न्यायाद् योग वियोगे चोभयत्र सम्बन्धः ।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.