मगही लोक गीत के वृहद संग्रह | Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah

मगही लोक गीत के वृहद संग्रह | Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah

मगही लोक गीत के वृहद संग्रह | Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : मगही लोक गीत के वृहद संग्रह है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Dr. Ram Prasad Singh | Dr. Ram Prasad Singh की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 61.7 MB है | पुस्तक में कुल 806 पृष्ठ हैं |नीचे मगही लोक गीत के वृहद संग्रह का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | मगही लोक गीत के वृहद संग्रह पुस्तक की श्रेणियां हैं : literature

Name of the Book is : Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah | This Book is written by Dr. Ram Prasad Singh | To Read and Download More Books written by Dr. Ram Prasad Singh in Hindi, Please Click : | The size of this book is 61.7 MB | This Book has 806 Pages | The Download link of the book "Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah " is given above, you can downlaod Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah from the above link for free | Magahi Lok Geet Ke Vrihad Sangrah is posted under following categories literature |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 61.7 MB
कुल पृष्ठ : 806

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

मगध के कुछ राजनेता, अंगरेजीदाँ, कभी-कभी हिन्दी मर्मज्ञ या लेखक भी भम्रोक्ति कर देते हैं कि क्षेत्रीय भापा-साहित्य के प्रचार-प्रसार से हिन्दी को बाधित किया जाता है, क्षेत्रीयता को बढ़ावा मिलता है और अंतत: देश की अखंडता पर प्रहार होता है। परंतु यह सुनकर हमें घोर आश्चर्य होता है कि आखिर हिन्दी क्या है ? इसको विकास परम्परा क्या है ? इसकी शब्द सम्पदा कहाँ से आई ? अमीर खुशरो ने किस भाषा का प्रयोग किया ? चंदबरदाई को विशाल शब्द-समूह के प्रयोग करने की क्षमता कहाँ से आई ? सूर-तुलसी की भाषा को क्या कहेंगे. ? सरहपा, गोरखनाथ, कबीर (सिद्धनाथ और संत परम्परा) और वद्यापति की भाषा क्या थी ? कहाँ से आई थी ? क्या इनकी भाषा और इनके साहित्य । में हिन्दी की समृद्धि नहीं हुई ? क्या उनलोगों ने अपनी अमर कृति में क्षेत्रीय भाषा का योग कर भारतीय अखंडता को बाधित करने का प्रयास किया ? अथवा उनकी भाषा और इस भाषा के साहित्य को निकाल दिया जाय (ब्रजी, अवधी, सधुक्कड़ी, डिंगल आदि) तो। हेन्दी कहाँ रहेगी ? इसके साहित्य में क्या बचेगा ?

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.