मोहम्मद साहब की जीवनी | Mohammad Sahab Ki Jivni

मोहम्मद साहब की जीवनी : विशम्भर नाथ | Mohammad Sahab Ki Jivni : Vishambhar nath

मोहम्मद साहब की जीवनी : विशम्भर नाथ | Mohammad Sahab Ki Jivni : Vishambhar nath के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : मोहम्मद साहब की जीवनी है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Vishambhar Nath Tripathi | Vishambhar Nath Tripathi की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 6.2 MB है | पुस्तक में कुल 244 पृष्ठ हैं |नीचे मोहम्मद साहब की जीवनी का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | मोहम्मद साहब की जीवनी पुस्तक की श्रेणियां हैं : Biography, dharm, islam

Name of the Book is : Mohammad Sahab Ki Jivni | This Book is written by Vishambhar Nath Tripathi | To Read and Download More Books written by Vishambhar Nath Tripathi in Hindi, Please Click : | The size of this book is 6.2 MB | This Book has 244 Pages | The Download link of the book "Mohammad Sahab Ki Jivni" is given above, you can downlaod Mohammad Sahab Ki Jivni from the above link for free | Mohammad Sahab Ki Jivni is posted under following categories Biography, dharm, islam |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : , ,
पुस्तक का साइज : 6.2 MB
कुल पृष्ठ : 244

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

अरबों का देश
हज़रत मोहम्मद का जन्म अरव देश में हुआ था।
यह देश हिन्दुस्तान से पच्छिम में एशिया के दक्खिनपच्छिम के कोने में है। उसके तीन तरफ पानी है । पूरव में फिरात नदी और उसके बाद ईरान की खाड़ी, दक्खिन में हिन्द महासागर और पच्छिम में लाल समुद्र । उत्तर में कुछ दूर तक रूम सागर है और फिर शाम ( सीरिया ) का देश जो तुर्की से मिला हुआ है। लाल समुद्र अरव को अफरीका के पुराने देशों मिस्र
और इथियोपिया से अलग करता है और ईरान की खाड़ी अरय की ईरान से अलग करती है । चम्बई और कराची के बन्दरगाहों से अरब एक हजार मील से कम है। अरव का मशहूर वन्दरगाह अदन, जिसे यूरोप से आने वालो के लिये हिन्द महासागर का मोहाना कहा जा सकता है, (१६४० में) अंगरेज़ो के क़ब्ज़े में है।
अरव की लम्बाई उत्तर से दक्खिन तक क़रीब १५०० मील और चौड़ाई पूरव से पच्छिम तक इसकी लगभग आधी है। फैलाव हिन्दुस्तान के आधे से कुछ ज्यादह है लेकिन शावादी मुशकिल से हिन्दुस्तान का पचासवां हिस्सा ।

You might also like
13 Comments
  1. AZAD ANSARI says

    subhan allha

  2. md aadil saifi Ajraryia says

    Masha Allha

  3. rezaul karim says

    All hamdulillah

  4. Mohammed farukh says

    Think for good information history of Mohammad shaab & Islam

  5. Manish kumar says

    Thanks

  6. salim shaikh says

    i can’t download this and other books
    when i click for download that’s show me website is temporary not available

  7. Sanjar Aise says

    Amazed

  8. saleem says

    Saleem

  9. Prerana Kishor says

    this doesn’t helped me in any way……………………

  10. Mohd Shahnawaz says

    Assalamualaiqum,I want to read history of Mohammad sahab

  11. VIRENDRA patangwala says

    Great information

  12. ram ji says

    paisa khojta hai aapka link is liye koi faida nahi hua sorry unable to download

  13. amrit singh says

    wah kya baat hai .nice post

Leave A Reply

Your email address will not be published.