संस्कृत साहित्य का इतिहास भाग-1 | Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1

संस्कृत साहित्य का इतिहास भाग-1 | Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1

संस्कृत साहित्य का इतिहास भाग-1 | Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1 के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : संस्कृत साहित्य का इतिहास भाग-1 है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Charuchandra Shastri | Charuchandra Shastri की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 13.1 MB है | पुस्तक में कुल 316 पृष्ठ हैं |नीचे संस्कृत साहित्य का इतिहास भाग-1 का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | संस्कृत साहित्य का इतिहास भाग-1 पुस्तक की श्रेणियां हैं : history

Name of the Book is : Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1 | This Book is written by Charuchandra Shastri | To Read and Download More Books written by Charuchandra Shastri in Hindi, Please Click : | The size of this book is 13.1 MB | This Book has 316 Pages | The Download link of the book "Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1 " is given above, you can downlaod Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1 from the above link for free | Sanskrit Sahitya Ka Itihas Bhag-1 is posted under following categories history |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 13.1 MB
कुल पृष्ठ : 316

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

संस्कृत साहित्य एक महान् वटवृक्ष है, वेद उसका मूल है, ब्राह्मण और आरण्यक उसके तने हैं; रामायण, महाभारत और पुराण उसका परि६ पुष्ट मध्यभाग है जिसके ऊपर विविध दर्शन, धर्मशास्त्र, आयुर्वेद, धनुर्वेद,गन्धर्व-विद्या, वास्तुशास्त्र आदि भौतिक ज्ञान-विज्ञान को पल्लवित करने वाली बहुमुखी शाखाएं हैं। इसी कारण, संस्कृत साहित्य का अनुसन्धान हर युग हैं और हर देश के विद्वानों के लिये मानव-जीवन के सकल लचय की सर्वाङ्गीण * सिद्धि के लिये सर्वदा सफल प्रयास सिद्ध हुआ है। संस्कृत साहित्य विश्व का सर्व प्राचीन साहित्य है और ऋग्वेद, विश्व-साहित्य का प्राचीनतम ग्रन्थ है।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.