तप का महत्त्व हिंदी पुस्तक | Tap Ka Mahatva Hindi Book

तप का महत्त्व हिंदी पुस्तक | Tap Ka Mahatva Hindi Book

तप का महत्त्व हिंदी पुस्तक | Tap Ka Mahatva Hindi Book के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : है | इस पुस्तक के लेखक हैं : | की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 0.13 MB है | पुस्तक में कुल 18 पृष्ठ हैं |नीचे का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm, hindu, inspirational, manovigyan

Name of the Book is : | This Book is written by | To Read and Download More Books written by in Hindi, Please Click : | The size of this book is 0.13 MB | This Book has 18 Pages | The Download link of the book "" is given above, you can downlaod from the above link for free | is posted under following categories dharm, hindu, inspirational, manovigyan |


पुस्तक की श्रेणी : , , ,
पुस्तक का साइज : 0.13 MB
कुल पृष्ठ : 18

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

ब्लडप्रेशर डाईबिटीज आदि में मानसिक तनाव को ही प्रमुख कारण माना गया है। वर्तमान शिक्षापद्वति बढती प्रतिस्पर्घा की भावना एवं आधुनिक जीवनशैली भी मानसिक रोगों में व द्वि का एक प्रमुख कारण है। शिक्षाप्रद एवं धार्मिक पुस्तकों के स्वाध्याय से मानसिक शांति हृदय गति का संतुलित होना जीवन की समस्याओं से बहादुरी से लडने की प्रेरणा ईश्वर में विश्वास आदि बातों से मानसिक तनाव को समाप्त करने में काफी योगदान प्राप्त होता है | साम्प्रदायिक सदभाव के विकास का माध्यम स्वाध्याय - आज विभिन्‍न धर्मों के अनुयायी अपने - अपने धर्म को श्रेष्ठ मानकर एवं दूसरों के धर्मों को नीचा मानकर आपस में लड रहें है । यदि सभी धर्मों का अध्ययन किया जाए तो यह श्रातिं दूर हो जाती है एवं एक दूसरे धर्म के प्रति आदर भाव विकसित होता है | उदाहरणार्थ यदि कोई भी मुस्लिम भाई जिसने कभी भी कुरान का एक बार भी मन से अध्ययन किया हो वह दूसरे धर्म के अनुयायी को जान से मारना दूर एक थप्पड भी मारना पसन्द नहीं करेगा | कुरान शरीफ में दया क्षमा ईमानदारी आदि अनेक गुणां पर बल दिया गया है | क्योंकि मुस्लिम समुदाय का एक बडा वर्ग अशिक्षित है और उन्हें धर्म के नाम पर जो भी सिखा दिया जाता है वे उस पर विश्वास कर उसे अमल में लातें हैयही हाल हिन्दू एवं अन्य धर्मों का भी है जहां कटटरपंथी धर्म के नाम पर कटुता का वातावरण पैदा कर रहें है शिक्षा के प्रसार एवं स्वाध्याय के माध्यम से यह समस्या दूर हो सकती है | स्वाध्याय को आम जनता के दैनिक जीवन में शामिल करने की आवश्यकता-आप किसी भी समस्या या मानसिक तनाव में हो तो किसी भी शिक्षाप्रद या धार्मिक पुस्तक का अध्ययन आपको तुरन्त मानसिक शान्ति एवं उस समस्या से मुकाबला करने की प्रेरणा देगा | गीता का निष्काम कर्मयोग हो या भगवत शरणागति ये सभी उपाय मनुष्य को सभी चिन्ताओं से मुक्त कर देतें है । आवश्यकता इस बात की है कि स्वाध्याय आम जनता को सुलभ हो एवं उसका उनके दैनिक जीवन में उपयोग हो | शिक्षाप्रद धार्मिक एवं दुर्लभ पुस्तकों एवं ग्रंथां का कम्प्युटरीकरण कर उन्हेंसुरक्षित करना एवं डी वी डी या इन्टरनेट के माध्यम से लोगों को पढने एवं डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध करवाना - आज लोगों के पास पुस्तकों को रखने के लिए स्थान का अभाव है | पुरानी पुस्तकों को चूहों एवं दीमक से बचाना भी एक समस्या है घर पर पढने के लिए समय का भी अभाव है | चूंकि कम्प्यूटरों का घर दुकान एवं ऑफिसों में प्रयोग बढ रहा है | सैंकडो पुस्तकें बहुत ही कम मैमोरी में डाउनलोड हो जाती है अपना फालतू एवरणनिव्टाधा€ - 15 वे 9पी धाावॉएटा घावों छा०वप८८५ पषवावषप् हएक फि€5 ध्ाएं। 656 6९6 ४०पा5 10छ1 कवि ४०५ ४४ ध0ा । 0वा 56 #0घ00वां 05016 0 पा6€ #0घ00वां शि0नादवीह्ा 009 । 00506 ००५20000 व 10 €व5ां6ा 0 ५५5९6 वा10 10900िव016€ 10 20006 5 2 5वााव5- 15८6

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.