योग रसायन हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Yog Rasayan Hindi Book Free Download

योग रसायन हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Yog Rasayan Hindi Book Free Download

योग रसायन हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Yog Rasayan Hindi Book Free Download के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : है | इस पुस्तक के लेखक हैं : | की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 4.91 MB है | पुस्तक में कुल 100 पृष्ठ हैं |नीचे का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | पुस्तक की श्रेणियां हैं : health, inspirational

Name of the Book is : | This Book is written by | To Read and Download More Books written by in Hindi, Please Click : | The size of this book is 4.91 MB | This Book has 100 Pages | The Download link of the book "" is given above, you can downlaod from the above link for free | is posted under following categories health, inspirational |


पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 4.91 MB
कुल पृष्ठ : 100
Click on Submit on the next page.

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

श्रीरमापतये नमः । योगरसायनम । किनन्नननन्यथव 2 20बाए न बटानाननाननन-य मंगलमू । योगनिद्रां समासादय यः दोते चोषविषरे । तस्य पादांचुज नित्य देवस्य प्रणमाम्यहम्‌ ॥१॥। अथे--योगरूपी निद्राको ग्रहण करके जो शेष- नागकी शय्यापर शयन करते हैं ऐसे जो दिव्यखरूप विष्णुभगवान हैं तिनके चरणकमलोंके प्रति मैं सर्व- दाकाल नमस्कार करताह इति॥ १ ॥। योगिराज दिव चापि नत्वा गुरुपदांवुजम्‌ | योगाचायानददोघेण योगं वक्ष्यामि सिद्धये ॥२॥। अथ--सर्व योगियोंके मुख्य अधिपति जो शिवजी हैं तिनको नमस्कार करके ओर अपने गुरुके चरणक- मलोंको नमस्कार करके तथा योगविद्याके आचाये जो त्स्पेन्द्रनाथ गोरक्षनाथ पतंजढ़ि याज्ववल्क्य आदिक हद तिन सर्वको नमस्कारकरके साधकपुरुषोंकी मोक्ष- या र १9

You might also like
1 Comment
  1. NITESH RAI says

    NICE

Leave A Reply

Your email address will not be published.