आर्यसमाज का इतिहास भाग-1 | Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1

आर्यसमाज का इतिहास भाग-1 | Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1

आर्यसमाज का इतिहास भाग-1 | Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1 के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : आर्यसमाज का इतिहास भाग-1 है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Swami Shraddhanand | Swami Shraddhanand की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 22.65 MB है | पुस्तक में कुल 268 पृष्ठ हैं |नीचे आर्यसमाज का इतिहास भाग-1 का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | आर्यसमाज का इतिहास भाग-1 पुस्तक की श्रेणियां हैं : history

Name of the Book is : Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1 | This Book is written by Swami Shraddhanand | To Read and Download More Books written by Swami Shraddhanand in Hindi, Please Click : | The size of this book is 22.65 MB | This Book has 268 Pages | The Download link of the book "Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1" is given above, you can downlaod Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1 from the above link for free | Aaryasamaj Ka Itihas Bhag-1 is posted under following categories history |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 22.65 MB
कुल पृष्ठ : 268

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

बहुत से सज़नों के अनुरोध से मैंने यह निश्चय कर लिया है कि आर्यसमाज का इतिहास तय्यार कर देना मेरा पहला कर्तव्य है । पूरी आधी शताब्दी बीत गई जब कि सं• १९२४ वि० के कुम्भ पर हरिद्वार में सर्वमेध पज्ञ कर और केवल कौपीन मात्र धारण किए ऋषि ने गंगा के किनारे २ धनते हुए वेदों का पवित्र सन्देश सुनाना प्रारम्भ किया था । बम्बई में सबसे पहले समाज को स्थापित हुए भी ४२ वर्ष व्यतीत होगए हैं । आर्यसमाज के वृद्ध अनुभवी सेवक प्रारी: इस संसार को छोड़ रहे हैं, जो शेष हैं उनमें भी चलाचली का चक्र चल रहा है अतएव इतने बड़े गम्भीर काम के योग्य न होते हुए भी मैंने यह साहस किया है, जिसकी कृतकार्यता सर्वसाधारण की सहायता पर निर्भर है।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.