अस्तित्व की खोज | Astitva Ki Khoj

अस्तित्व की खोज : शिवरतन थानवी हिंदी पुस्तक | Astitva Ki Khoj : Shivratan Thanvi Hindi Book

अस्तित्व की खोज : शिवरतन थानवी हिंदी पुस्तक | Astitva Ki Khoj : Shivratan Thanvi Hindi Book के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : अस्तित्व की खोज है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Shivratan Thanvi | Shivratan Thanvi की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 2.05 MB है | पुस्तक में कुल 165 पृष्ठ हैं |नीचे अस्तित्व की खोज का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | अस्तित्व की खोज पुस्तक की श्रेणियां हैं : inspirational

Name of the Book is : Astitva Ki Khoj | This Book is written by Shivratan Thanvi | To Read and Download More Books written by Shivratan Thanvi in Hindi, Please Click : | The size of this book is 2.05 MB | This Book has 165 Pages | The Download link of the book "Astitva Ki Khoj" is given above, you can downlaod Astitva Ki Khoj from the above link for free | Astitva Ki Khoj is posted under following categories inspirational |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 2.05 MB
कुल पृष्ठ : 165

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

ही तामुख राषटर-निरमाण के कारयों में शिकषक की भूमिका निविवाद है। समाज शिकषक के परति झपनी कृतजता जञापित करने की दृषटि से परतिवरष शिकषफ-दिंदस का भायोजन करता है। शिकषा विभाग राजसथान इस शरवसर पर शिकषकों का सममान कर उनहें राजय सतर पर पुरसकृत करदा है भौर उनके कारयकारी जीवन के सुजनशील कणों को सकलनों के रूप में परकाशित करता है । इन संकलनों में शिकषकों की फरियाशील झनुभूतियाँ साहितय- सरजना के पखिल भारतीय परवाह में उनकी संवेदनशीलता तथा उनकी सामाजिक-सासइतिक समकालीनता के सवर मुरखारित होते हैं भर उनहे यहाँ एकरप रूप में देखा भौर पढ़ा जा सकता है । सन‌ १६६७ से विभागीय परवरतन दवारा सृूजनशील शिकषकों की रचनाभों के परवाधन का जो उपकरम एक संगरह के परकाशन से भारमभ या गया था वह भव परतिवपें पाँच परकाधनों की सीमा तक पहुँचा है। परसलेता वी. बात है कि सारत-मर में इस भनूठी परकाशन- योजना का सवागत हुभा है भौर इससे सृजनशील शिकषकों की परमिरचियों को परदरतर होने दो परेरणा मिली है । सन‌ १६७२ तक इस परकाशनं-तम में दाईस पुसतकें परवाशित हो चुरी हैं भौर इस माला में इस वरष ये पाँच परकाशन भौर सममिलित किए जा रहे हैं १. खिलखिलाता पुलमोहर (वहानों-संपरहू) ३. धूप के परलेरू (शवितानसंगरहू) ३. रेडमारी बा रोशगार (रंगमंबीय एकांतरी -ंपरहें) ४. भसतितव की खोज (विविध रचना-संयह) 2. जूना बेली मुवा बेली (राजसथानी रचना-संगरहै) राजसथान के उतसाही परदायकों ते इस योजना मे शरारमभ से

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.