बाईसवीं सदी | Baisvin Sadi

बाईसवीं सदी | Baisvin Sadi

बाईसवीं सदी | Baisvin Sadi के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : बाईसवीं सदी है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Rahul Sanskrityayan | Rahul Sanskrityayan की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 4.93 MB है | पुस्तक में कुल 122 पृष्ठ हैं |नीचे बाईसवीं सदी का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | बाईसवीं सदी पुस्तक की श्रेणियां हैं : history, Stories, Novels & Plays

Name of the Book is : Baisvin Sadi | This Book is written by Rahul Sanskrityayan | To Read and Download More Books written by Rahul Sanskrityayan in Hindi, Please Click : | The size of this book is 4.93 MB | This Book has 122 Pages | The Download link of the book "Baisvin Sadi" is given above, you can downlaod Baisvin Sadi from the above link for free | Baisvin Sadi is posted under following categories history, Stories, Novels & Plays |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 4.93 MB
कुल पृष्ठ : 122

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

ओह, इतना परिवर्तन ! यहाँ इतने मोटे-मोटे वृक्ष पहले कहाँ थे ? यह बड़ी चट्टान भी तो यहाँ नहीं थी । तब यह आई कहाँ से १ हाँ, उस शिखरसे टूटकर आई मालूम पड़ती है; लेकिन इस ऊँची चट्टान के बीच में जाने से यह बाग्मतीमें नहीं गिर सकी । पर वहाँ से आई कैसे, राह में बड़े-बड़े वृक्ष जो हैं ! तो ज्ञात होता है, ये वृक्ष पीछे उगे हैं । और ये आकृतिसे सौ वर्ष पुराने मालूम होते हैं । तो क्या मेरे आये इतने दिन हो गये-श्रोह-हो ! हाँ, मुझे स्मरण हो रहा है, मैं फर्वरी १६२४ में यहाँ आया था । यदि तबसे १०० वर्ष बीते, तो अब २०२४ होना चाहिये ।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.