भक्त सौरभ | Bhakta Sourabh

भक्त सौरभ | Bhakta Sourabh

भक्त सौरभ | Bhakta Sourabh के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : भक्त सौरभ है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Hanuman Prasad Poddar | Hanuman Prasad Poddar की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 24.3 MB है | पुस्तक में कुल 134 पृष्ठ हैं |नीचे भक्त सौरभ का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | भक्त सौरभ पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm, Poetry

Name of the Book is : Bhakta Sourabh | This Book is written by Hanuman Prasad Poddar | To Read and Download More Books written by Hanuman Prasad Poddar in Hindi, Please Click : | The size of this book is 24.3 MB | This Book has 134 Pages | The Download link of the book "Bhakta Sourabh " is given above, you can downlaod Bhakta Sourabh from the above link for free | Bhakta Sourabh is posted under following categories dharm, Poetry |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 24.3 MB
कुल पृष्ठ : 134

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

ओड़छा ( बुन्देलखण्ड ) के रहनेवाले सनाढ्य ब्राह्मणकुलमें पण्डित सुमोखन शर्मा शुक्ल राजपुरोहित एक माननीय पुरुष थे । उनके वचनको ओड़छानरेश और उनकी सब प्रजा मानती थी । उनकी धर्मपत्नीके गर्भसे विक्रम-संवत् १५६७ मार्गशीर्ष कृष्णा पञ्चमीकै दिन एक सुपुत्ररत्न उत्पन्न हुआ, जिसका शुभ नाम हरिराम रखा गया। यह लड़कपनसे ही बड़ा बुद्धिमान् मालूम होता था; सबको प्रिय लगता था । पं० सुमोखन शर्माने अपने इकलौते प्रिय पुत्रको भलीभाँति विद्याभ्यास कराकर सब प्रकारसे . सुयोग्य परम विद्वान् बना दिया और जैसे उपनयनसंस्कार किया वैसे ही यथासमय बड़े समारोहसे एक सुशीला कन्या के साथ उसका विवाह भी कर दिया ।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.