भारतीय समाजवाद और आचार्य नरेन्द्र देव | Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev

भारतीय समाजवाद और आचार्य नरेन्द्र देव | Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev

भारतीय समाजवाद और आचार्य नरेन्द्र देव | Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : भारतीय समाजवाद और आचार्य नरेन्द्र देव है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Amar Jyoti Singh | Amar Jyoti Singh की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 28.5 MB है | पुस्तक में कुल 273 पृष्ठ हैं |नीचे भारतीय समाजवाद और आचार्य नरेन्द्र देव का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | भारतीय समाजवाद और आचार्य नरेन्द्र देव पुस्तक की श्रेणियां हैं : history, science

Name of the Book is : Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev | This Book is written by Amar Jyoti Singh | To Read and Download More Books written by Amar Jyoti Singh in Hindi, Please Click : | The size of this book is 28.5 MB | This Book has 273 Pages | The Download link of the book "Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev" is given above, you can downlaod Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev from the above link for free | Bharteeya Samajvad Aur Acharya Narendra Dev is posted under following categories history, science |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 28.5 MB
कुल पृष्ठ : 273

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

मेरा किसी भी विश्वविद्यालय के अध्यापन कार्य से कभी कोई सम्बन्ध नहीं रहा है। समाजशास्त्र और सांस्कृतिक परिवर्तन की प्रक्रिया का मैं विद्यार्थी भी नहीं रहा हैं । विद्वत्ता और पाण्डित्य से कोसों दूर मैं सामाजिक संरचना का सतर्क और सक्रिय समभागी रहने में आनन्द का अनुभव करता हैं । फिर विद्वानों के द्वारा किया जानेवाला कार्य मुझसे क्यों कराया जा रहा है यह भान मेरे संकोच को और बढ़ा रहा है । आचार्य नरेन्द्र देव भारत में समाजवादी आन्दोलन के जनक थे । उस आन्दोलन में उनके साथ, उनके नेतृत्व में कार्य करने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ ।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.