गुरु ग्रन्थ साहिब की प्रमुख वाणियां हिंदी पुस्तक | Guru Granth Sahib Ki Pramukh Vaniyan Hindi Book

गुरु ग्रन्थ साहिब की प्रमुख वाणियां हिंदी पुस्तक | Guru Granth Sahib Ki Pramukh Vaniyan Hindi Book

गुरु ग्रन्थ साहिब की प्रमुख वाणियां हिंदी पुस्तक | Guru Granth Sahib Ki Pramukh Vaniyan Hindi Book के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : है | इस पुस्तक के लेखक हैं : | की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 41.22 MB है | पुस्तक में कुल 483 पृष्ठ हैं |नीचे का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm

Name of the Book is : | This Book is written by | To Read and Download More Books written by in Hindi, Please Click : | The size of this book is 41.22 MB | This Book has 483 Pages | The Download link of the book "" is given above, you can downlaod from the above link for free | is posted under following categories dharm |


पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 41.22 MB
कुल पृष्ठ : 483

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

गाए मुस्वाणी-इर | अनुशंसा में रहना चाहिए सत्य की सत्ता की अनुभूति का यही एक- मात्र मार्ग है - जो अनन्त काल से जीव की उत्पत्ति से लेकर आज तक चला आ रहा है । भ£े २ शेड हुकमी होवनि आकार हुकमु न कहिआ जाई। हुकमी होवनि जीअ हुकमि मिले वडिआई। हुकमी उतमु नीचु हुकमि लिखि दुख सुख पाईअहि। इकना हुकमी बखसीस इकि हुकमी सदा भवाईअहि। हुकमे अंदरि सभु को बाहरि हुकम न कोइ। नानक हुकमे जे बुझे त हउमै कहै न कोइ। परमात्मा के हुकुम की कोई व्याख्या सम्भव नहीं है परम की इच्छा की कोई शाब्दिक अभिव्यक्ति नहीं हो सकती | विश्व के सभी रूप-आकार उसी की इच्छा द्वारा सृजित हैं । उसी के हुकुम से विभिन्न जीवों को अलग-अलग योनियों को धारण करना होता है और उसकी स्वेच्छा से ही जीव बड़े-छोटे आकार और पद प्राप्त करते हैं । हुकुमी अर्थात्‌ परमात्मा हुकुम देनेवाला इच्छुक की इच्छा से ही जीव उत्तम-नीच योनी में आता और दुःख-सुख को प्राप्त होता है । परमात्मा जिस पर कृपा कर देता है उसे आत्म-पद देकर मुक्त करता है और अन्य को जन्म-मरण के आवागमन में भी उसी की ही इच्छा से रहना होता है । तात्पर्य यह कि विश्व का प्रत्येक कार्य-व्यापार और व्यवहार उसके हुकुम में बंधा है उससे बाहर कुछ भी नहीं । यदि जीवात्मा इस तथ्य को सही परिप्रेक्ष्य में पहचान ले और सब दशाओं में इंश्वर का हुकुम सिर-माथे पर धारण करे तो वह अहंकार के परिवेश मैं करता हूँ मैं करूँगा आदि से मुक्त होता है ।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.