श्रीविष्णुसहस्त्रनामस्तोत्रम | Shrivishnunam Sahastra Strotam

श्रीविष्णुसहस्त्रनामस्तोत्रम : गीताप्रेस | Shrivishnunam Sahastra Strotam : Geeta Press

श्रीविष्णुसहस्त्रनामस्तोत्रम : गीताप्रेस | Shrivishnunam Sahastra Strotam : Geeta Press के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : श्रीविष्णुसहस्त्रनामस्तोत्रम है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Geeta Press | Geeta Press की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 100 KB है | पुस्तक में कुल 32 पृष्ठ हैं |नीचे श्रीविष्णुसहस्त्रनामस्तोत्रम का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | श्रीविष्णुसहस्त्रनामस्तोत्रम पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm, gita-press, hindu

Name of the Book is : Shrivishnunam Sahastra Strotam | This Book is written by Geeta Press | To Read and Download More Books written by Geeta Press in Hindi, Please Click : | The size of this book is 100 KB | This Book has 32 Pages | The Download link of the book "Shrivishnunam Sahastra Strotam" is given above, you can downlaod Shrivishnunam Sahastra Strotam from the above link for free | Shrivishnunam Sahastra Strotam is posted under following categories dharm, gita-press, hindu |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : , ,
पुस्तक का साइज : 100 KB
कुल पृष्ठ : 32

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

श्रीविष्णुसहस्रनामस्तोत्रम् वेद्यो वैद्यः सदायोगी वीरहा माधवो मधुः। अतीन्द्रियो महामायो महोत्साहो महाबलः ॥ ३१॥ महाबुद्धिर्महावीर्यो महाशक्तिर्महाद्युतिः।। अनिर्देश्यवपुः श्रीमानमेयात्मा महाद्रिधृक् ॥ ३२॥ महेष्वासो महीभर्ता श्रीनिवासः सतां गतिः।। अनिरुद्धः सुरानन्दो गोविन्दो गोविदां पतिः ॥ ३३॥ मरीचिर्दमनो हंसः सुपर्णो भुजगोत्तमः। हिरण्यनाभः सुतपाः पद्मनाभः प्रजापतिः ॥ ३४॥ अमृत्युः सर्वदृक् सिंहः सन्धाता सन्धिमान्स्थिरः। अजो दुर्मर्षणः शास्ता विश्रुतात्मा सुरारिहा॥३५॥

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.