मंगलाचरण हिंदी-संस्कृत | Manglacharana Hindi-Sanskrit

मंगलाचरण हिंदी-संस्कृत | Manglacharana Hindi-Sanskrit

मंगलाचरण हिंदी-संस्कृत | Manglacharana Hindi-Sanskrit के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : मंगलाचरण हिंदी-संस्कृत है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Unknown | Unknown की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 258 KB है | पुस्तक में कुल 16 पृष्ठ हैं |नीचे मंगलाचरण हिंदी-संस्कृत का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | मंगलाचरण हिंदी-संस्कृत पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm, Knowledge

Name of the Book is : Manglacharana Hindi-Sanskrit | This Book is written by Unknown | To Read and Download More Books written by Unknown in Hindi, Please Click : | The size of this book is 258 KB | This Book has 16 Pages | The Download link of the book "Manglacharana Hindi-Sanskrit" is given above, you can downlaod Manglacharana Hindi-Sanskrit from the above link for free | Manglacharana Hindi-Sanskrit is posted under following categories dharm, Knowledge |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 258 KB
कुल पृष्ठ : 16

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

इस श्लोकमें धनकी अधिष्ठात्री लक्ष्मी तथा विद्याकी अधिष्ठात्री सरस्वती और कर्मक्षेत्रके अधिष्ठाता ब्रह्माकी स्तुति की गयी है। इस मन्त्रका आशय है कि मेरे कर (हाथ)-के अग्रभागमें भगवती लक्ष्मीका निवास है, कर (हाथ)-के मध्यभागमें सरस्वती तथा कर (हाथ) के मूलभागमें ब्रह्मा निवास करते हैं।' प्रभातकालमें मैं अपनी हथेलियों में इनका दर्शन करता हूँ। इससे धन तथा विद्याकी प्राप्तिके साथ-साथ कर्तव्यकर्म करनेकी प्रेरणा प्राप्त होती है। भगवान् वेदव्यासने करोपलब्धिको मानवका परम लाभ माना है।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.