एक तिनके से आई क्रांति | One Straw Revolution

एक तिनके से आई क्रांति : मासानोबू फुकुओका | One Straw Revolution : MASANOBU FUKUOKA

एक तिनके से आई क्रांति : मासानोबू फुकुओका | One Straw Revolution : MASANOBU FUKUOKA के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : एक तिनके से आई क्रांति है | इस पुस्तक के लेखक हैं : MASANOBU FUKUOKA | MASANOBU FUKUOKA की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 318.6 KB है | पुस्तक में कुल 101 पृष्ठ हैं |नीचे एक तिनके से आई क्रांति का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | एक तिनके से आई क्रांति पुस्तक की श्रेणियां हैं : education, Knowledge, science

Name of the Book is : One Straw Revolution | This Book is written by MASANOBU FUKUOKA | To Read and Download More Books written by MASANOBU FUKUOKA in Hindi, Please Click : | The size of this book is 318.6 KB | This Book has 101 Pages | The Download link of the book "One Straw Revolution " is given above, you can downlaod One Straw Revolution from the above link for free | One Straw Revolution is posted under following categories education, Knowledge, science |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : , ,
पुस्तक का साइज : 318.6 KB
कुल पृष्ठ : 101

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

जिस तरह सब्जी बेचने वाले बार-बार पो छिड़क कर फल सब्जियों की जाजगी बनाए रखने की बॉशिश करते हैं, उससे कोई फास्दा नहीं होता। क्योंकि उसके द्वारा सिर्फ उन्को बाहर कप जात्रा । नजर आने लगा है। इस किशा से उनके जाश दिवाने के शव उनके स्वाद, सुश भी पोषक तत्वों । आमा होने लगता है।
कुल मिलाकर, नारी शाकारी सांगतिया और सामुदायिक इंटनी कद्र का एकीकरण र धिार तरह की तैयारी क्रियाएं चलाए रखने के लिए ही किया गया है। इरी को लोग 'आधुनिकीकरण' । कहते हैं कि फल को नाना पैक का चिट डिलेनरी प्रणाली' पर मजा का उपभोका नक पहन। या ।।
॥ में हैं , ३५ तक में अपने उस मूल्-वथ को नहीं बदलेंगे, भिसके चलते ४ गु प्ता के पतले घों के रंग तपा आकार-प्रकार को ज्यादा महत्व देते हैं, तब तक खाद्य प्रदूषण की समस्या राण नहीं हो सकी।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.