आज भी खरे हैं तालाब | Aaj Bhi Khare Hain Talab

आज भी खरे हैं तालाब | Aaj Bhi Khare Hain Talab

आज भी खरे हैं तालाब | Aaj Bhi Khare Hain Talab के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : आज भी खरे हैं तालाब है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Anupam Mishra | Anupam Mishra की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 6 MB है | पुस्तक में कुल 57 पृष्ठ हैं |नीचे आज भी खरे हैं तालाब का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | आज भी खरे हैं तालाब पुस्तक की श्रेणियां हैं : Stories, Novels & Plays

Name of the Book is : Aaj Bhi Khare Hain Talab | This Book is written by Anupam Mishra | To Read and Download More Books written by Anupam Mishra in Hindi, Please Click : | The size of this book is 6 MB | This Book has 57 Pages | The Download link of the book "Aaj Bhi Khare Hain Talab" is given above, you can downlaod Aaj Bhi Khare Hain Talab from the above link for free | Aaj Bhi Khare Hain Talab is posted under following categories Stories, Novels & Plays |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 6 MB
कुल पृष्ठ : 57

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

आजादी बचाओ आंदोलन पिछले कुछ वर्षों से स्वदेशी विचार के प्रोत्साहन में लगा हुआ है| गांव और के देहातों में घूमते समय शुद्ध पेयजल की समस्या लगभग सभी जगह देखने को मिली| लेकिन इसी के समानांतर पानी की समस्या को सुलझाने के लोक प्रयासों की झांकी भी देखने को मिली निसंदेह इन लोक प्रयासों के पीछे कहीं न कहीं अनुपम भाई (गांधी शांति प्रतिष्ठान) और उनकी किताब ‘आज भी खरे हैं तालाब’ की महत्वपूर्ण भूमिका दिखाई और सुनाई पड़ती है| हमारे आंदोलन के साथियों और पानी की समस्या के लिए चिंतित सभी सुधी पाठकों के लिए किताब को पुनर्मुद्रित करने की अनुमति दे कर भाई ने न केवल हमारा हौसला बढ़ाया है बल्कि इस विषय पर हम सबका ध्यान भी खींचा है| हम उनके बहुत आभारी हैं

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.