अंक विद्या रहस्य | Ank Vidhya Rahasya

अंक विद्या रहस्य : पंडित गोपेश कुमार | Ank Vidhya Rahasya : Pandit Gopesh Kumar

अंक विद्या रहस्य : पंडित गोपेश कुमार | Ank Vidhya Rahasya : Pandit Gopesh Kumar के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : अंक विद्या रहस्य है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Pandit Gopesh Kumar | Pandit Gopesh Kumar की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 6.2 MB है | पुस्तक में कुल 190 पृष्ठ हैं |नीचे अंक विद्या रहस्य का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | अंक विद्या रहस्य पुस्तक की श्रेणियां हैं : jyotish, Knowledge

Name of the Book is : Ank Vidhya Rahasya | This Book is written by Pandit Gopesh Kumar | To Read and Download More Books written by Pandit Gopesh Kumar in Hindi, Please Click : | The size of this book is 6.2 MB | This Book has 190 Pages | The Download link of the book "Ank Vidhya Rahasya" is given above, you can downlaod Ank Vidhya Rahasya from the above link for free | Ank Vidhya Rahasya is posted under following categories jyotish, Knowledge |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 6.2 MB
कुल पृष्ठ : 190

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

पैसे, तोल, माप, थर्मामीटर आदि एक ही दशमलव के आधार पर बनाये जा रहे हैं, वैसे ही हमारे प्राचीन ऋषियो ने ‘काल' और ‘संख्या' का समन्वय किया था। इसी के समीकरण और सामञ्जस्य स्वरूप १०८००० की सख्या उपलब्ध हुई और दशमलव की प्रणाली के अनुसार बिन्दु छोड़ देने से १०८ की सख्या प्राप्त हुई। हमारे प्राचीन ऋषियो ने 'शब्द', काल, संख्या आदि सभी का इस प्रकार सामञ्जस्य कर दिया था कि प्रत्येक नामका-नाम के अक्षरो का संख्या पिंड, बनाने से उसके सब गुण उस सख्या से प्रकट हो जाते थे । इसी आधार पर जय-पराजय चक्र आगे ९ वें प्रकरण मे दिये गये हैं। ऋणि और घनी-कौन किसका कर्जदार है अक-विद्या, मंत्र-विद्या, आदि से सम्बन्ध रखता है, क्योकि देना-पावना संख्या मे ही होता है। नाम को ‘सख्या मे परिवर्तित करना-एक बहुत गभीर विद्या है। आजकल के वैज्ञानिक प्रत्येक भोज्य पदार्थ को ‘कैलोरी" मे परिवर्तित कर यह बताते हैं कि किस भोजन मे कितना शक्ति-वर्धक साधन है। इसी प्रकार किसी नाम को सख्या मे परिवर्तित करके यह बताया जा सकता है कि कौन से नाम का व्यक्ति, किससे अधिक शक्तिशाली होगा । प्रत्येक व्यक्ति का नाम उस व्यक्ति का प्रतीक है। विद्वानी के मत से मनुष्य जब सोया हुआ रहता है-तब भी उसके चैतन्य की एक कला जगी हुई रहती है । और उसे

You might also like
25 Comments
  1. Sunil Kumar Pandey"Sankrit" says

    Ank Jyotish Ganitiya siddhanton par aadharit hai aur pramanik hai.

  2. Sunil Kumar Pandey"Sankrit" says

    Ank Jyotish Ganitiya siddhanton par aadharit hai aur pramanik hai.

    1. Umesh says

      Pl send me this book not downloading from here.
      umeshdd2@yahoo.com

  3. Rahul paswan says

    Dhanyawad sir

    1. Kim says

      Blessings

  4. Harish acharya says

    Thanx for offer classic books

  5. priyam rai says

    IF u want to do anythings in your life then then dont belive on this .only belive on god .its my suggestion

  6. Naveen Kumar says

    आपकी किताब pdf कैसे download होगी
    या किताब कहा पर मिलेगी

  7. Dev says

    Link is not working. Can you please put up the book again. Ank Vidhya Rahasya

  8. Abhi says

    Download hot nhi ahe ka?

  9. gsn says

    download nahi ho raha hai sir ye book

  10. anand says

    Links are not working.

  11. girijesh says

    ye download nahi ho raha h

  12. deepak says

    ank vidya or the secret download hone me error aa rhe hai

  13. Biren says

    this link is not download pls send me other..
    on mail..
    mr_biren619@yahoo.com

    please..

  14. brij mohan says

    how can download

  15. GURVINDER SINGH says

    muje BEDI AMRITPAL KA CONTACT CHIYEA AGER KOYI VEER DE SKTA HA TO BECOSE HE IS <<<

  16. mukesh says

    downloading problem occurs plzz send link to email…. i interested in that so plzz help me… waiting ….

  17. Naveen kumar says

    ज्योतिसतत्वम का पहला भाग अपलोड करे

  18. Ajay mishraa says

    Mujhe kucchh jsnkariyan chahiye that ank vidya ke baare men

  19. Nilesh says

    dafuq. ye download hi no ho raha. koi meko bhejo nilesh.hardrock@gmail.com

    1. Jatin says

      Link Update kr di hai. Ab aap Download Kr Sakte hain

  20. Shantilal says

    ye download kiro ki

  21. Dr Anil Bishnoi says

    यह डाउनलोड नहीं हो पा रहा है कृपया करके मुझे यह पुस्तक भिजवाने की कृपा करें आपका आभारी रहूंगा

    1. admin says

      लिंक काम कर रहा है अब डाउनलोड कर सकते हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.