प्रश्नोपनिषद : गीता प्रेस की हिंदी पुस्तक | Prashnopanishad by Geeta Press Hindi Book

प्रश्नोपनिषद : गीता प्रेस की हिंदी पुस्तक | Prashnopanishad by Geeta Press Hindi Book

प्रश्नोपनिषद : गीता प्रेस की हिंदी पुस्तक | Prashnopanishad by Geeta Press Hindi Book के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : है | इस पुस्तक के लेखक हैं : | की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 6.46 MB है | पुस्तक में कुल 124 पृष्ठ हैं |नीचे का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm, gita-press, hindu

Name of the Book is : | This Book is written by | To Read and Download More Books written by in Hindi, Please Click : | The size of this book is 6.46 MB | This Book has 124 Pages | The Download link of the book "" is given above, you can downlaod from the above link for free | is posted under following categories dharm, gita-press, hindu |


पुस्तक की श्रेणी : , ,
पुस्तक का साइज : 6.46 MB
कुल पृष्ठ : 124
Click on Submit on the next page.

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

ग्रोशश खाने सम्बन्धधाष्य मस्त्रोक्तस्यार्थस्य विस्तरानु- | अधर्वणमन्त्रोक्त मुण्डकों- चादर पनिपद्के अर्थका विस्तारपूर्वकर चादीदें ्ाह्मणमारभ्यते। | अनुवाद करनेवाली यह ब्राह्मणभागीय उपनिषद्‌ अब आरम्भ की जाती है । इसमें जों ऋषियोंके प्रश्न और उत्तररूप विद्यास्तुतये 1 एवं संवत्सर- आख्यायिका है वह विद्याकी स्तुतिके | लिये है। यह विद्या आगे कहें ब्रह्मचर्यसंबासादियुक्तैस्तपोयुक्तै - प्रकारसे एक वर्षतक ब्रह्मचर्यपूर्वक गुरुकुलमें रहना तथा तप आदि ग्राह्मा पिप्पलादादिवत्सर्वज्ञ- । साधनोंसे युक्त पुरुषोंद्वारा ही ग्रहण ल्परायायवतस्या की जानेयोग्य है तथा पिप्पलादके लस्पायावनतया पद न सा सर्वज्ञतुल्य आचार्योसि ही ऋषिप्र श्रप्रतिवचनाख्यायिका तु येन केनचिदिति विद्या की जा सकती है जिस- किसीसें नहीं-इस प्रकार विद्याकी स्तौति । ब्रह्मचर्यादिसाधनसूचनाच्च स्तुति की जाती है । तथा ब्रह्मचर्यादि साधनोंकी सूचना देनेंसे उनकी तत्कर्तव्यता स्यात्‌। कर्तव्यता भी प्राप्त होती है। सुकेशा आदिकी गुरूपसत्ति 3 सुकेशा च भारद्वाज शैब्यश्र सत्यकाम सौर्यायणी च गार्ग्य कौसल्यश्ाश्वलायनो भार्गवों वैदर्भि कबन्धी कात्यायनस्ते हैते ब्रह्मापरा ब्रह्मनिष्ठा परे ब्रहमान्वेषमाणा दस उपनिषदौमें प्रश्न मुण्डक और माण्ड्क्य-ये तीन अधर्ववेदीय हैं। इनमें मुण्डक मन्त्रभागकी है तथा शेष दो ब्राह्मणभागकों हैं ।

You might also like
1 Comment
  1. vijay bhasker says

    I love this site jay shree krishna

Leave A Reply

Your email address will not be published.