शासन के सिद्धांत | Shasan Ke Siddhant

शासन के सिद्धांत : डॉ इकबाल नारायण हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Shasan Ke Siddhant : Dr. Ikbal Narayan Hindi Book Free Download

शासन के सिद्धांत : डॉ इकबाल नारायण हिंदी पुस्तक मुफ्त डाउनलोड | Shasan Ke Siddhant : Dr. Ikbal Narayan Hindi Book Free Download के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : शासन के सिद्धांत है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Iqbal narayan | Iqbal narayan की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 60.55 MB है | पुस्तक में कुल 238 पृष्ठ हैं |नीचे शासन के सिद्धांत का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | शासन के सिद्धांत पुस्तक की श्रेणियां हैं : india, Knowledge, politics, Uncategorized

Name of the Book is : Shasan Ke Siddhant | This Book is written by Iqbal narayan | To Read and Download More Books written by Iqbal narayan in Hindi, Please Click : | The size of this book is 60.55 MB | This Book has 238 Pages | The Download link of the book "Shasan Ke Siddhant" is given above, you can downlaod Shasan Ke Siddhant from the above link for free | Shasan Ke Siddhant is posted under following categories india, Knowledge, politics, Uncategorized |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : , , ,
पुस्तक का साइज : 60.55 MB
कुल पृष्ठ : 238

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

1 1 न ) पर दर | प रथ पन है पा. र पारस्परिक सम्बन्ध सम्मिलित होता है। संविधान राज्य का निर्माण नहीं करता किन्तु वह उसके अस्तित्व का बाह्य स्वरूप होता है। गिलक्राइस्ट का कथन है कि संविधान उन लिखित या अलिखित नियमों अथवा कानूनों का समूह होता है जिनके द्वारा सरकार का संगठन सरकार की शक्तियों का विभिन्‍न अंगों में वितरण और इन शक्तियों के प्रयोग के सामान्य सिद्धान्त निश्चित किये जाते हैं । हरमन फाइनर ने लिखा है कि संविधान आधारभूत राजनीतिक संस्थाओं की व्यवस्था होती है। प्रोफेसर डायसी के अनुसार वे सब कानून संविधान में सम्मिलित होते हैं जिनका प्रभाव प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से राज्य में प्रभुत्व-शक्ति के वितरण अथवा उसके प्रयोग पर पड़ता है। वुल्से के कथनानुसार उन नियमों का समूह संविधान कहलाता है जिनके अनुसार सरकार की शक्ति शासित के अधिकार और दोनों के सम्बन्धों का समायोजन होता है। लास्की के शब्दों में नियमों का वह भाग संविधान कहलाता है जिसके द्वारा यह निर्धारित होता है कि (1) ऐसे नियम कैसे बनाये जाएँ (2) किस प्रकार वह बदले जायें तथा (39 उन्हें कौन बनाये। ब्राइस के शब्दों में संविधान ऐसे निश्चित नियमों का एक संग्रह होता है 1... फट फिणर्वक्षाणलाधि फाालंफ65 पाना 0८0 पाए लिए 0 8 5181 छाए ८1160 115 (.0ए580ए00. ७५६ 1100८ फट 100 9४ पिला फिट 51910 15 एाा 560 06 एंडाएएपघिएए 0 115 50पछालछाा ए0/ए7 घाएाए (10 एप्ा0ए5 01885 04 ०४८10 ५६ 50006 0 प्रकट 0 एए0150 0 20४८ाएएएटाघा घ्िफाटप्रणा का र8वि0ा5 0 फिट 80४०पााणा। 10 पाह 9७010 0४८ भागणा। 15 घपाणि0णा न 15 ७एजलए 560 फट (एणानापधिएाा 00९5 01 (एप्ाए पा6 5816 90 15 0ए५/काएं वजिएएघघिणा 04 51810 एड लाएए एप सप0घीएदीएा 10 एव उलट [. 244 2. पुफ़ाट (एणण05घ0घ0ा 04 8 51810 15 छा 900४ 0 ए105 ता 1घफ5 भाप (हा एा प्ााश्वा ला साल 0ढा6८्धा&5 घाट एए्काए5घघ0 01 छु0४ठाशााटा। दिए एड ए0एप 04 06 (0 छ८ पतं0प5 0छूकषाई 04 छूण्लाापाएह। घाते (0 इुध्महाध [फ़ाएपु1€5 0 भाफिटा फिट 6 फए0प/015 घाट 0 90 (दलाल 500 न्एणिघाएंडा संवटुाए एव कणद्रातवा 50 ए. 226 3... (.0ए5प्घिघिं0ए 15 8 582 0 पितेक्ाालाधा फिट फराइतं(एपिएा पापा 20707 दाद हाबदाटट ए प०व7 (िएशवाडाड 0. 1 0. 181. 4... 11 1ए65 ज़ाफला फ्राह्टाएए ए कावाएएतन लीड फिट तीडिपपएपिएा 07 पट ८#८0150 0 (० 50720 0५0७ छा घाट 500 फ़ाप्डट पू प्रिंट (ए0005010प0ं000 01 फ6 51216. नवजट्-नप000 0४ 1985 ता 80 2 तवघर्पीप्ंहरहाए ए (एटा .71 3. कफ ८णोड्टपरेण एव फराह फ़णलफु।७5 80००0 10 भला पाए ए0एन/6ा5 0 &0४घाए1870 फट एछा018 04 फट छु0४छाएध0 काएं फट 1ठक्परिणाड 9८७8 घट (४0 बा बाण ८0 15 एशाध्त 2 ( 0ए50पिआा .. -न0050४--(00000 09४ पर ठाहत 7९ वप्रधीफ्हाराउ 0 0ए0पहाघराहया 0. 71. हि... नवरसााप भाप शिक्षा फृणधणा 0 फट उपा७ड एाफंटा 5०5 (1) 0५/ 5071 1प165 शाए (0 0० प्राकाए6 (2) पा फराश्नाताला छा चतफंटा फाटक का (0 0८ दाल (3) रा घाट (0 प्राघाद८ फ्राघण उ5 एका०त पार (णाइपपएपरिंणा (एव फीट 18910. उा्ज-ध5ाता-+000160 0४ [1985 सप्ाध्0 7८ परचम ए (ए०एडकााहा 0. 71. डे दड्क

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.