उद्दीश-तन्त्रम (पार्वतीश्वर संवादरूपम) | Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam)

उद्दीश-तन्त्रम (पार्वतीश्वर संवादरूपम) : नारायण हिंदी पुस्तक | Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam) : Narayan Hindi Book

उद्दीश-तन्त्रम (पार्वतीश्वर संवादरूपम) : नारायण हिंदी पुस्तक | Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam) : Narayan Hindi Book के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : उद्दीश-तन्त्रम (पार्वतीश्वर संवादरूपम) है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Narayan Prasad | Narayan Prasad की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 1.25 MB है | पुस्तक में कुल 109 पृष्ठ हैं |नीचे उद्दीश-तन्त्रम (पार्वतीश्वर संवादरूपम) का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | उद्दीश-तन्त्रम (पार्वतीश्वर संवादरूपम) पुस्तक की श्रेणियां हैं : dharm, hindu

Name of the Book is : Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam) | This Book is written by Narayan Prasad | To Read and Download More Books written by Narayan Prasad in Hindi, Please Click : | The size of this book is 1.25 MB | This Book has 109 Pages | The Download link of the book "Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam)" is given above, you can downlaod Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam) from the above link for free | Uddish-Tantram (Parvatishwar Samvadroopam) is posted under following categories dharm, hindu |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी : ,
पुस्तक का साइज : 1.25 MB
कुल पृष्ठ : 109

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

१० पटल हैं जो देशमुख रावणने अपने एक एक मुख एक एक पृदल वरणन किया है तहाँ -- १ परथम पटलमें-मारणमयोग वरणन किया है। २ दवितीय परदलमें-अशवनाशनादि मकार वरणन है । ३ तृतीय पटलमें-मोहनमयोग वरण है । ४ चतुरथ पटलमें-सतमभपरयोग वरणन है । ० पंचम परलरमगें-विदेषभमयोग वरगन है । ६ पृषठ पटलमें-उचाटनमयोग वरणन है । ७ सतम पटलमें-परशाकरणमयोग वरणन है | ८ अषटम पटलमें-भाकरपणमयोग वरणन है । ९ नवम पटलमें-यकषिणीसाधनपरकार वरणन है । १० दशम पटलमें-इनदजालकौतुक तथा शिवाबदिविधान वरणन है । इस मकार इन दश पटलॉंसे विशयूपित यहू भतपूततम तंतर तंतरोभं शिरोमणि-लंकापतिरावणकी वाणीसे अका- शित पैडितॉका शकराशरूपयनथ है इस मनथका समपूरण

You might also like
1 Comment
  1. Padmapadan Pillai says

    thanks

Leave A Reply

Your email address will not be published.