कन्या शुल्कम | Kanya Shulkam

कन्या शुल्कम : भीमसेन निर्मल | Kanya Shulkam : Bheemsen Nirmal

कन्या शुल्कम : भीमसेन निर्मल | Kanya Shulkam : Bheemsen Nirmal के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : कन्या शुल्कम है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Bheemsen Nirmal | Bheemsen Nirmal की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 7 MB है | पुस्तक में कुल 137 पृष्ठ हैं |नीचे कन्या शुल्कम का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | कन्या शुल्कम पुस्तक की श्रेणियां हैं : Stories, Novels & Plays

Name of the Book is : Kanya Shulkam | This Book is written by Bheemsen Nirmal | To Read and Download More Books written by Bheemsen Nirmal in Hindi, Please Click : | The size of this book is 7 MB | This Book has 137 Pages | The Download link of the book "Kanya Shulkam" is given above, you can downlaod Kanya Shulkam from the above link for free | Kanya Shulkam is posted under following categories Stories, Novels & Plays |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 7 MB
कुल पृष्ठ : 137

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

विजयनगर के महाराजा के आदेश प[आर विशाखापटनम के ब्राह्मण परिवारों में
जितने विवाह हुए, उनकी तालिका दस वर्ष पहले तैयार की गयी थी | सम्बंधित
व्यक्ति कन्याशुल्क लेने की बात स्वीकार करने को तैयार नहीं हुए | इसलिए वह
तालिका पूर्ण नहीं हुई | फिर भी, वह तालिका एक कीमती और दिलचस्प दस्तावेज
बन गयी | प्रमाणित विवाह की संख्या 1084 तक पहुँच गयी जिसका औसत प्रति वर्ष
344 पड़ता है | इनमें निन्यानवे बालिकाएं उम्र में 5 वर्ष की, 44 बालिकाएं 4
वर्ष की, 36 लड़कियां 3 वर्ष की, 6 लड़कियां 2 वर्ष की और 3 लड़कियां 1 वर्ष
की थीं जब वे विवाह के सूत्र में बांध गयीं …………….

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.