पांच कवि | Panch Kavi

पांच कवि | Panch Kavi

पांच कवि | Panch Kavi के बारे में अधिक जानकारी :

इस पुस्तक का नाम : पांच कवि है | इस पुस्तक के लेखक हैं : Shri Jinendra Muni | Shri Jinendra Muni की अन्य पुस्तकें पढने के लिए क्लिक करें : | इस पुस्तक का कुल साइज 4.7 MB है | पुस्तक में कुल 268 पृष्ठ हैं |नीचे पांच कवि का डाउनलोड लिंक दिया गया है जहाँ से आप इस पुस्तक को मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं | पांच कवि पुस्तक की श्रेणियां हैं : Knowledge

Name of the Book is : Panch Kavi | This Book is written by Shri Jinendra Muni | To Read and Download More Books written by Shri Jinendra Muni in Hindi, Please Click : | The size of this book is 4.7 MB | This Book has 268 Pages | The Download link of the book "Panch Kavi" is given above, you can downlaod Panch Kavi from the above link for free | Panch Kavi is posted under following categories Knowledge |


पुस्तक के लेखक :
पुस्तक की श्रेणी :
पुस्तक का साइज : 4.7 MB
कुल पृष्ठ : 268

Search On Amazon यदि इस पेज में कोई त्रुटी हो तो कृपया नीचे कमेन्ट में सूचित करें |
पुस्तक का एक अंश नीचे दिया गया है : यह अंश मशीनी टाइपिंग है, इसमें त्रुटियाँ संभव हैं, इसे पुस्तक का हिस्सा न माना जाये |

पाँच कवि' के सम्पादन में आपने अपने बुद्धि कौशल का सम्यक् परिचय प्रदान किया है । कवि तथा गायक होने की दृष्टि से आप गीतो के पारखी भी हैं। आपने प्रस्तुत संग्रह में स्थानकवासी जैन समाज के उन पाँच कविरत्नो को चुना है जिनके उमल-मानस से समय-समय पर युगानुसारी चेतना-प्रधान कविता नि सृत होकर जन-मन को उद्बोधित करती रही है। प्रायः सभी कवियों की कविताएँ दिलचस्प-रोचक एव जागृति का अभिनव-सचार करने वाली हैं।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.